Breaking News

गौरी लंकेश की माँ लिखने से मना करती हैं, कहा- समाज नहीं बदलेगा, जान ज़रूर चली जाएगी

सबसे ज्यादा चिंताजनक इनके वो बेकाबू समर्थक हैं, जिनपर मैं नहीं बता सकता बीजेपी और उसकी सहयोगी संस्थाओं का काबू है या नहीं।

“गौरीलंकेश की हत्या, सिर्फ एक पत्रकार की हत्या नहीं है…यह राज्य की हाँ में हाँ नहीं मिलाने वाले, राज्य की कमियों पर ऊँगली उठाने वाले, आवाज़ों, विचारों और भारतीय संस्कृति के आत्मबल की हत्या की कोशिश है…लगता है बिना-हत्यारों के की जाने वाली इन हत्याओं का कारक और कारण, सन्देश भेजता रहता है कि मैं वह जल्लाद हूँ जो अपने खिलाफ़ उठने वाली आवाज़ को मार देता हूँ… अभिसार मित्र हैं, अनेक और पत्रकार भी मित्र हैं, मैं भी हूँ, आप भी हैं…और गौरीलंकेश की हत्या, बिलकुल हमारे मुहाने पर हुई हत्या है, हम ज़िन्दा हैं लेकिन मुहाने पर हो रही इन हत्याओं में ‘गोली’ हमें छू कर ही जा रही है. बस – सत्यमेव जयते / भरत तिवारी

आज सुबह मां का फोन आया कहती हैं, चाहते क्या हो तुम ? गौरी लंकेश को भी मार डाला। उसे लोग कुछ दिन याद करेंगे, फिर भूल जाएंगे। तुम जो लिख बोल रहे हो, मुठ्ठी भर लोगों की वाहवाही मिल जाएगी। मगर किसी की सोच नहीं बदल सकते तुम। तुम्हे कुछ हो गया तो किसी को कोई फर्क नहीं पड़ेगा, रोएंगे तुम्हारे माँ-बाप, तुम्हारे बच्चे, तुम्हारी बीवी। कुछ नहीं बदलेगा। मां करे भी तो क्या करे। कभी चाचा, कभी मौसाजी, कभी पापा के दोस्त यहीं फोन करके बोलते हैं, “अभिसार को संभालो। कहो कंट्रोल मे लिखे। क्या जरूरत है ये सब बोलने की। कोई इतना सीधे थोड़े ना बोलता है ?

 

Check Also

देश में जमीनों के खेल में कांग्रेस के बाद अब बीजेपी भी शामिल हो गई है

बीजेपी सत्ता में आने से पहले कांग्रेस की सरकारों पर जमीनों की बंदरबांट के आरोप ...