Breaking News

राहुल गांधी पर केस करके बुरी तरह फँसा संघ, अब केस वापसी की तैयारी कयोकि …..

राहुल गांधी पर केस करके फँस गया संघ। क्योकि अब उसे यह साबित करना होगा कि गांधी के हत्यारो से उसका कोई सम्बंध नही था बहुत से ऐसे सवाल है जिसको संघ झुठलाता रहा है। मगर अब कोर्ट मे जवाब देना होगा पेच फँस गया रोज संघ का काला इतिहास अखबारो मे छपेगा इसलिये अब केस वापसी की तैयारी मे है संघ

संघ ने गाँधी जी को मरवाया था। मारना और मरवाना में कुछ फर्क है ।

जैसे गुजरात नरसंहार में मोदी ने करवाया ये सारी दुनिया जानती है।लेकिन कोई लिखित आदेस न होने के कारण बच गए । आरएसएस कोई रजिस्टर्ड नही है और न ही इसके सदस्य लिखा पढ़ी में आते है, न ही इनका कोई एकाउंट है ।

आरएसएस एक हिन्दू उग्रवाद का संघटन है । दिखने में ये राष्टवाद का चोला पहने रहते है । इनके संघटन जो तरह तरह के संस्था के है
विश्व हिन्दू परिषद
बजरँग दल
हिन्दू महासभा
दुर्गा वाहनी
अभिनव भारत
हिन्दू युवा वाहनी
करणी सेना
आदि तरह तरह के कट्टर हिन्दुओ का संघटन

इनकी छत्र छाया में पल बढ़ रहा है। गाँधी जी की हत्या में तरह तरह के दस्तावेज सामने आ रहे है । जिसमे ये बात साफ़ हो रही है की आरएसएस की विचारधारा के लोग ने ही गांधी जी को मारा था ।

एक चिट्ठी में यह भी है की पटेल को साजिस के बारे में गांधी जी को बताया था की कुछ लोग आपको मारना चाहते है । लेकिन गाँधी जी ने इस पर कोई ध्यान नही दिया । एक पत्र में ये भी है की पटेल ने मुकर्जी को लिखा था की आपकी विचारधारा ने गाँधी जी को मारा था । आज भी इसी विचारधारा के लोग कलबूर्गी । पनसरे। गौरी लंकेश । जज लोया । एखलाक । पहलू खान । जैसे लोगो की हत्या इसी विचारधारा के लोग ने किया ।

अब फिर गाँधी की हत्या पर चलते थे । जो आरएसएस के जानकार है या उसमे है वो जानते है और लोगो को बताते भी है की गाँधी हमारे सबसे बड़े दुश्मन है । उनकी विचारधारा को आरएसएस विरोध करती है इसलिए उनको मरवाया गया । आज भी इसी विचारधारा के लोग देश में नफरत फैला रहे है । गांधी जी को इसलिये नफरत करते है की उन्होंने मुस्लिम को भी हिन्दुस्तानी माना है । आज भी जो हिन्दू इनकी विचारधारा के खिलाफ बोलते या लिखते है उनकी माँ बहन कर देते है ।

राहुल को बीजेपी पप्पू या मद्बुन्दि के कहते है तो एक बात वे ये समझ ले की राहुल विपश्यना की साधना कर चुके है । उन लोगो को याद दिला दू की जब राहुल 40 दिन के लिए बाहर गए थे तब मोदी सरकार की पुलिस राहुल के जूते का नाप लेने के बहाने उनके आफिस खोजबीन कर रहे थे । तब राहुल तिब्बत में विपश्यना साधना कर रहे थे । जो भी विपश्यना के बारे में जानता है वो ये भी जानता होगा की वो कभी हार नही सकता । शुरू में संघर्ष करने के बाद अपना मुकाम पा जाता है ।

राहुल ने गांधी जी की हत्या का दोष आरएसएस पर लगाया ये एक मास्टर स्ट्रोक है की आने वाले निर्णय तक आरएसएस को राहुल पूरी तरह नंगा कर देगा । खुद बीजेपी के मंत्री M J AKBAR ने अपनी किताब में आरएसएस को दोषी माना है ।

राहुल का मकसद है की आज के युवा को ये मालुम होना चाहिए की आरएसएस का इतिहास क्या है । कांग्रेस के पास सारे दस्तावेज है । जो अभी तक सार्वजनिक नही हुआ है वो अब सार्वजनिक हो जायेगी ।

मुझे लगता है कि ये मामला लम्बा चलने वाला है तब तक आरएसएस अपनी इस विचारधारा को लगाम लगाये रखेगा । राहुल गांधी ने पहले ही अमित शाह को जज लोया के मामले में फंसा रखा है ।

अब अगर आरएसएस बदनाम होती है जैसा की लग रहा है की गाँधी की हत्या का इतिहास की कब्र खुलने वाली है । बीजेपी और आरएसएस को राहुल ने बुरी तरह से फंसा रखा है । राहुल की बीजेपी और आरएसएस सिर्फ हंसी उड़ा सकती है । उसमे भी ये लोग को जनता पागल ही समझती है । अभी ये एक और मामले में बदनाम होने जा रही है वो बीजेपी पार्टी जो अपने को दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी है उसका कोषाध्यक्ष ही नही है । लेकिन 29 मई 2017 को चुनाव आयोग को दिये हलफनामे में सिर्फ कोषाध्यक्ष की जगह सिर्फ एक हस्ताक्षर है । जो स्पष्ट नही है ।

कया राहुल गांधी का ये मास्टर स्ट्रोक बीजेपी और आरएसएस दोनों को नंगा कर देगी ? देेेेखते है आगे आगे।

Check Also

नोटबंदी के बाद सबसे ज्यादा पुराना नोट अमित शाह की बैंक मे जमा हुआ – आरटीआई

यह सही है कि नोटबंदी के बाद सबसे ज्यादा फायदा बीजेपी ने ही उठाया है ...