Breaking News

अंजना – डर के आगे गठबंधन है, लोग बोले – गुमराह करने के पीछे अंजना कश्यप नही, अंजना ओम मोदी है।

आजतक चैनल की एंकर अपने आप को अंजना ओम मोदी कहती है और लोगो से सवाल करती है कि डर के आगे गठबंधन है ! तो अंजना ओम मोदी को लोग बोले- डर के आगे गठबंधन नहीं डर के पीछे गुमराह करने वाली अंजना ओम मोदी है।

22 मई को कुमारस्वामी की ताजपोशी में पूरब से पश्चिम और उत्तर से दक्षिण तक के गैर बीजेपी नेता शामिल हुए। मंच पर एक साथ यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, बसपा प्रमुख मायावती, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी, टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी, टीडीपी अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू, एनसीपी प्रमुख शरद पवार, आरएलडी अध्यक्ष अजीत सिंह, आरजेडी नेता तेजस्वी यादव और सीपीआई के डी. राजा सहित विपक्ष के सभी नेता मौजूद थे।

विपक्ष की इस एकजुटता को देखकर गोदी मीडिया घबरा चुका है। 22 मई की शाम तमाम न्यूज चैनलों के शो में विपक्ष की एकता को संदिग्ध बताया जाने लगा। उस शाम न्यूज चैनल के चर्चित शो ”हल्ला बोल” का टॉपिक था ”डर के आगे गठबंधन है!”इस शो की होस्ट अंजना ओम कश्यप है जो एक खुद को लाइव टीवी पर ‘अंजना ओम मोदी’ बोल चुकी हैं।

भारतीय राजनीति का इतिहास गवाह है जब-जब सत्ता निरंकुश हुई है तब-तब विपक्ष ने एक होकर उसका सामना किया है। आपातकाल के बाद हुए आम चुनाव को उदाहरण के तौर पर याद किया जा सकता है। आपको याद होगा इंदिरा गाँधी के नेतृत्व वाली निरंकुश कांग्रेस को सत्ता से बाहर करने के लिए पूरा विपक्ष एक हो गया था। उस वक्त मोरारजी देसाई के नेतृत्व में भारत में पहली बार गैर कांग्रेसी सरकार बनी थी।

लेकिन आज जब विपक्ष मोदी सरकार के खिलाफ एकजुट हो रहा है तो मीडिया उसे बदनाम कर रही है। अंजना ओम कश्यप ने विपक्ष पर सवाल उठाते हुए जो शो किया उसकी आलोचना में एक ट्विटर यूजर ने लिखा डर के आगे गठबंधन नही है अंजना.. .हाँ, देश को गुमराह करने के पीछे अंजना ओम मोदी जरूर है।

Check Also

नोटबंदी के बाद सबसे ज्यादा पुराना नोट अमित शाह की बैंक मे जमा हुआ – आरटीआई

यह सही है कि नोटबंदी के बाद सबसे ज्यादा फायदा बीजेपी ने ही उठाया है ...