Breaking News

बीजेपी का नारा है दंगो का सहारा है, क्योंकि दंगो का जितना कीचड़ फैलेगा उतना कमल खिलेगा

मिले सुर मेरा तुम्हारा तो दंगे बने सहारा इस धुन की तर्ज पर बीजेपी ने देश को दंगों की आग मे झौक दिया है।

अलीगढ़ मुस्लिम यूनीवर्सिटी के स्टूडेंट हॉल मे पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर को लेकर विवाद हो गया था, हालांकि बाद मे इस तस्वीर को हटा लिया गया, लेकिन उससे पहले हिन्दुवादी संगठनों ने यूनीवर्सिटी मे घुसकर हिंसा की थी। इस हिंसा में कथित तौर पर पुलिस ने भी उनका साथ दिया था और अलीगढ़ मुस्लिम यूनीवर्सिटी के छात्रों पर लाठियां बरसाई थी जिसमें कई छात्र घायल हो गये थे।

मीडिया में यह विवाद छाया हुआ है, इसी बीच जेएनयू के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैय्या कुमार ने इस विवाद को लेकर भाजपा पर निशाना साधा है। कन्हैय्या ने कहा कि जिन्ना की तस्वीर 1938 से AMU में लगी हुई है।कई बार UP और केन्द्र में BJP की सरकार बनी तो अब ही ये माँग क्यों उठी?अगले साल चुनाव है, ना विकास हुआ,ना काला धन वापिस आया,ना 2 करोड़ नौकरियाँ मिली,ना ही 15 लाख। फिर से भाजपा का नारा है, दंगा ही सहारा है। हिन्दू नहीं, मोदी ख़तरे में है।

उन्होंने कहा कि जिन्ना और सावरकर का भूत देश के भविष्य  पर लाठी चलवा रहा है। दोनों ने धर्म के नाम पर देश के बँटवारे की माँग की थी। उस दौरान भी सावरकर के चेलों ने अंग्रेज़ों का साथ दिया था, आज भी 21वीं सदी के भारत को 1947 के विभाजन के दौर में पहुँचाने की हरसंभव कोशिश कर रहे हैं।

पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष ने कहा कि जिन्ना और सावरकर देश के बँटवारे के सिक्के के दो पहलू हैं। दोनों ने माना कि हिन्दू और मुसलमान साथ नहीं रह सकते।AMU से जिन्ना और संसद से सावरकर की तस्वीर हटा दो तो कोई दिक़्क़त नहीं है लेकिन तस्वीर के नाम पर विद्यार्थियों पर हमला और देश को बाँटने की साज़िश को कामयाब नहीं होने देगें।

साभार नेशनल स्पीक

Check Also

अगर विपक्ष इसी तरह चुनाव लङा तो 2019 मे औंधे मुँह गिरेगे नरेन्द्र मोदी।

आंकड़ों के ज़रिए 2014 से लेकर अब तक कर्नाटक में बीजेपी की दशा में आए ...