Breaking News

बीजेपी और चुनाव आयोग की खुली पोल, अमेरिका के वैज्ञानिकों ने चंद सेकेंडो मे हैक कर दी भारतीय ईवीएम।

चुनाव आयोग और बीजेपी के उस दावे की आज हवा निकल गई जो उसने ईवीएम को लेकर कहा था कि पूरी दुनिया मे उसकी ईवीएम सबसे ज्यादा सुरक्षित है। अमेरिका के कुछ वैज्ञानिकों ने भारत की ईवीएम को चंद सेकेण्ड मे हैक भारतीय लोकतंत्र की हत्या का खुलासा कर दिया है कि किस तरह भारत मे ईवीएम हैक कराकर चुनाव जीता जाता है।

अमरीकी वैज्ञानिकों ने हिला दी भारतीय लोकतंत्र की जड़ें, EVM को कर दिखाया हैक

वॉशिंगटन मे अमरीकी विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने भारतीय ईवीएम को हैक करने की तकनीक विकसित करने का दावा किया है। इस तकनीक की मदद से मिशिगन विश्वविद्यालय के शोधकर्ता मोबाइल से संदेश भेजकर परिणाम बदलने में सक्षम रहे। अमरीकी वैज्ञानिकों ने ईवीएम को हैक करके दिखा दिया कि भारत के हर चुनाव में बीजेपी कितनी धांधली करा सकती है और वो कैसे भारतीय लोकतन्त्र की जड़ें कमजोर कर रसी है। तमाम राजनीतिक पार्टियों को पहले ही भाजपा पर संदेह है कि यूपी और उत्तराखंड में वोट हासिल करने के लिए इस तकनीक का इस्तेमाल किया है।
PunjabKesari
उधर, इस खुलासे के बाद भारत के चुनाव अधिकारियों का फिर वही पुराना घिसा पिटा गोलमोल जवाब कि उनकी मशीनें पूरी तरह निर्विवाद और सुरक्षित हैं, और ईवीएम मशीन के साथ छेड़छाड़ असंभव है। जब उनसे पूछा गया कि आपकी ही मशीन हैक कराकर दिखाई गयी है तब कैसे कह सकते हो कि ईवीएम सुरक्षित है ? इस पर चुनाव आयोग ने कहा कि उसको भारत सरकार से तनख्वाह मिलती है न कि किसी और देश से हम बार बार और हर बार यही कहेगे कि हमारी ईवीएम सुरक्षित है और जब तक सरकार नही चाहेगी तब तक उसकी कोई जाच भी नही कर सकता किसी को हमारी मशीन पर शंका हो तो कभी भी हमारे ऑफिस  आकर बिना मशीन को छुये हैक कराकर दिखा सकता है ।

 

मिशिगन विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं द्वारा इंटरनेट पर एक वीडियो पोस्ट किया गया जिसमें भारत में उपयोग किए जाने वाली मतदान मशीन को घरेलू निर्मित एक छोटी सी चिप से जोड़ कर दिखाया गया है।इस परियोजना के नेतृत्व कर्ता प्रोफेसर जे एलेक्स हल्दरमैन, ने बताया कि डिवाइस (चिप) की मदद से मोबाइल फोन से संदेश भेजकर मशीन का परिणाम बदला जा सकता है।

PunjabKesari

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने एक माइक्रो प्रोसेसर के साथ साथ एक ब्लूटूथ डिवाइस को मशीन के साथ कनैक्ट कर दिया  जिसको मोबाइल से कनैक्ट करके भी वोट का रिज़ल्ट बदला जा सकता है। वैज्ञानिकों ने साबित किया की किस तरह से इस छोटी सी चिप के सहारे मोबाइल से वोट की अदला बदली की जा सकती है और रिज़ल्ट के साथ छेड़ छाड़ की जा सकती है। इसके अलावा, उन्होंने एक छोटा माइक्रोप्रोसेसर भी जोड़ा जिससे चुनाव में मतदान के दौरान और वोट-गिनती के समय भी वोटों को बदला जा सकता है।

PunjabKesari

Check Also

कर्नाटक चुनाव ने बीजेपी की कब्र खोद दी है, 2019 मे मोदी की वापिसी असंभव

कर्नाटक का आईना और BJP के लिए 2019 के खतरे का लाल निशान अजीत अंजुम ...