Breaking News

ये उप राष्ट्रपति देश के बने है या बीजेपी पार्टी के बने है, जो बीजेपी के सुर मे सुर मिलाते रहते है !

जब से पीएम मोदी ने देश के युवाओं को पकोड़ा बेचने के लिये कहा है तब से मोदी जी ट्रोल हो रहे है। पीएम मोदी के इस बयान पर उनके बचाव में जब भाजपा अध्यक्ष अमित शाह उतरे तो विरोधियो ने उन्हें भी ट्रोल कर दिया। रोज़गार और पकौड़े पर राजनीती के बीच अब देश के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने बड़ा बयान दिया है।

देश के उपराष्ट्रपति ने भाजपा सरकार को रोज़गार के मुद्दे पर घिरते देख बड़ा बयान देते हुए कहा है कि देश में हर किसी को नौकरी नहीं दी जा सकती। आज तक की रिपोर्ट के अनुसार, नीति आयोग और सीआईआई के कार्यक्रम में बोलते हुए उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा कि क्या इस देश में हर किसी को नौकरियां दी जा सकती हैं? नायडू ने कहा कि हर किसी को नौकरी नहीं दी जा सकती, लेकिन चुनाव के दौरान हर सरकारें ऐसा वायदा करती हैं। उन्होंने कहा कि अगर सरकारें ऐसा वायदा ना करें तो जनता उन्हें नौकरी नहीं देगी। नायडू ने यह भी कहा कि जो काम किसी पर निर्भर है वह अपने आप में एक काम है और इसलिए पकौड़ा बनाना भी एक काम है।

रिपोर्ट के अनुसार उपराष्ट्रपति ने यह भी कहा कि समय है नौकरी और जीविका अर्जित करने के बीच के अंतर को समझा जाए। उनका कहना है कि शिक्षा सिर्फ नौकरी के लिए नहीं है बल्कि एंपावरमेंट के लिए है और लोगों को यह समझना चाहिए। नायडू ने तर्क देते हुए कहा क्या यह हर किसी के लिए संभव है कि वह डॉक्टर बन जाए ?

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी ने अपने इंटरव्यू में रोज़गार के सवाल पर पकौड़े का उदाहरण दिया था और उसके बाद विपक्ष ने उनको ट्रोल किया था। इसके बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने राज्यसभा में कहा था कि बेरोजगारी से अच्छा है कि युवा मेहनत कर पकौड़े बेचें। हलाकि देश के युवा सरकार की ओर से इस बयानबाजी से काफी नाराज़ है और जगह जगह पकौड़े की दूकान लगाकर सरकार का विरोध कर रहे है। दूसरी ओर सवाल यह भी उठता है कि चुनाव के समय इन झूठे वादों पर रोक कब लगेगी ?

 

Check Also

नैतिकता की नयी परिभाषा – अगर कांग्रेस ने अपने विधायकों को बंधक न बनाया होता तो मै बीजेपी की सरकार बना देता – अमित शाह

कर्नाटक में बिना स्पष्ट बहुमत के सरकार बनाने की कोशिशों पर भारतीय जनता पार्टी कई ...