Breaking News

शताब्दी ट्रेन मे टीटी ने यात्री से टिकट मांगा तो उसने कहा कि मै आतंकी हू, दिल्ली उड़ाने जा रहा हू !

26 जनवरी के लिये बीजेपी ने फिर एक नयी कहानी भोपाल के रासते जनता के सामने रख दी और मीडिया को 26 जनवरी तक के लिये एक मसालेदार सटोरी मिल गयी। आपको याद होगा पिछले साल भोपाल मे 12 बीजेपी नेता पाकिस्तान के लिए जासूसी करते हुये पकड़े गये थे इन आतंकियों मे एक बीजेपी नेता ध्रुव सक्सेना जो मोदी जी की चुनाव रैलियो का खर्च देखता था। बीजेपी ने ध्रुव सक्सेना को पैसा कमवाया था देश मे तेजी से बदलते माहौल का असर जनता पर न पड़े इसके लिये उसने अपने कार्यकर्ताओ को अंदर कराकर संदेश दिया कि बीजेपी ने उसके खिलाफ कार्रवाई की है। जबकि आजतक एक भी भृषटाचारी जेल नही गया है

26 जनवरी पर दिल्ली में आतंकी हमले की साजिश का भंडाफोड़, अक्षरधाम था टारगेट

वैसे तो बीजेपी के पास आतंकी हमला कराना या उसकी पटकथा लिखना कोई मुश्किल काम नही है। मोदी को पता है कि उनकी नाकारा नीतियो के कारण देश पाताल मे चला गया है। इसलिये वो जनता को गुमराह करने के लिये कोई न कोई कहानी दिखाना शुरू कर देते है और जनता को वे गुमराह करने मे सफल हो जाते है। देश की समस्याओं को हल न कर पाने वाले मोदी को यह कला बहुत अच्छे से आती है यहाँ तक कि वो मंचो से रो भी लेते है।

एक खबर आ रही है या ये कहिये एक मजेदार कहानी लिखी गयी है कि आगामी 26 जनवरी के दौरान दिल्ली को दहलाने की साजिश रची गई है। रविवार रात मथुरा के पास भोपाल शताब्दी से एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया गया है. उसकी निशानदेही पर दो लोगों की तलाश में दिल्ली के होटलों में छापेमारी की गई. तफ्तीश में पता चला कि दोनों संदिग्ध एक दिन पहले ही होटल से फरार हो गए हैं. अब दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल, यूपी ATS और IB दोनों संदिग्धों की तलाश में जुटी हुई हैं. दो संदिग्धों की दिल्ली में मौजूदगी से सुरक्षा एजेंसियों के होश भी उड़ गए हैं।

ये सभी आतंकी 26 जनवरी के कार्यक्रम और दिल्ली के अक्षरधाम मंदिर पर आतंकी हमला सकते है। लेकिन उनको भोपाल शताब्दी से गिरफ्तार कर लिया गया है बताया जा रहा है एक शख्स की हरकतें टीटी को संदिग्ध लगीं. टीटी ने फौरन जीआरपी को सूचना दी. मथुरा के पास जीआरपी ने जब उससे पूछताछ की तो पूछताछ में उसने अपना नाम बिलाल अहमद वानी बताया।

अनंतनाग निवासी बिलाल ने बताया कि वो और उसके दोस्त दिल्ली में 26 जनवरी के कार्यक्रम और अक्षरधाम मंदिर पर हमला करने की तैयारी कर रहे हैं. ये सुनते ही जीआरपी को होश उड़ गए. उन्होंने फौरन इसकी जानकारी यूपी ATS को दी. यूपी ATS ने उससे कड़ाई से पूछताछ की तो वह पागलों जैसी हरकतें करने लगा

बिलाल अहमद वाणी ने पुलिस को बताया कि वह और उसके दो साथी दिल्ली के जामा मस्जिद के पास होटल अल राशिद में ठहरे थे. वह खुद होटल से निकल गया और उसके दो साथी अब भी होटल में रुके हुए हैं. यह जानकारी मिलते ही यूपी पुलिस ने दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल और IB को इसकी जानकारी दी. 26 जनवरी से पहले दिल्ली में आतंकी हमले की जानकारी मिलने से स्पेशल सेल और IB की टीम जामा मस्जिद के जम जम गेस्ट हाउस और होटल अल राशिद पर रेड करने पहुंची.

होटल अल रशीद से पता चला कि 2 जनवरी को ये लोग यहां आए थे और 6 जनवरी को रात 8:30 बजे होटल से निकल गए.

जामा मस्जिद के होटल अल रशीद के मैनेजर ने आजतक संवाददाता को बताया कि 3 लोग 2 जनवरी को आए. यह लोग दिन में निकल जाते थे और रात को आते थे. कई बार जब रुके रहते थे तो खाना खाने जाते थे. इनसे मिलने होटल में कोई नहीं आया और इनकी गतिविधियां भी सामान्य थीं.

होटल के मैनेजर ने बताया कि सबसे आश्चर्यजनक बात यह है कि वह तीन बैग लेकर आए थे और जब गए तो इनके पास सिर्फ दो ही बैग थे. उनमें से एक शख्स 6 तारीख की सुबह 11:00 बजे ही चला गया था, जबकि बाकी के दोनों शख्स शाम को करीब 6:00 बजे होटल से गए.

तीनों संदिग्ध होटल अल रशीद के डबल बेडरूम कमरा नंबर 201 में रुके थे. यूपी एटीएस और दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने होटल कर्मचारियों से भी पूछताछ की और उनके कमरे की तलाशी ली. साथ ही पुलिस अपने साथ होटल में लगे सीसीटीवी फुटेज भी अपने साथ ले गई.

होटल अल रसीद में ठहरे तीन में दो संदिग्धों के नाम मुदस्सिर अहमद वागय और मोहम्मद अशरफ है.

इन दोनों संदिग्धों की तलाश में पुलिस ने जामा मस्जिद के ही पास एक होटल जमजम में भी रेड किया. वहां मौजूद अशरफ नाम के दो अलग-अलग लोगों को अपने साथ पूछताछ के लिए ले गई, लेकिन बाद में उन्हें छोड़ दिया.

जांच एजेंसियों की भी बैठे बिठाये नींद उड़ा गयी है

जांच एजेंसी अब उन दो संदिग्धों की तलाश कर रही है. इन दोनों के होटल से फरार हो जाने से जांच एजेंसियों की नींद उड़ गई है. 26 जनवरी से पहले अक्षरधाम मंदिर पर हमला करने की साजिश की एक कड़ी तो पुलिस के हाथ लग गई है. लेकिन 2 अब तक फरार हैं. स्पेशल सेल, यूपी ATS समेत IB संदिग्धों की तेजी से तलाश कर रही है. सूत्रों की माने  तो यह कहानी बीजेपी दफ्तर से रची गयी है।

Check Also

सपा बसपा गठबंधन ने भाजपा को ऐसा किया मजबूर कि लगी सरकार दलित के घर लोटने !

गोरखपुर मे सपा बसपा गठबंधन की जीत ने पूरी भाजपा को ऐसा मजबूर कर दिया ...