Breaking News

बीजेपी राज्यपाल ने दिल्ली पुलिस से पूछा – अरविंद केजरीवाल और उसके विधायक कैसे बच रहे हैं ?

दिल्ली मे बीजेपी के राज्यपाल किस तरह बीजेपी के इशारे पर काम कर रहे है आज उनका ये कारनामा देखकर आपको अंदाजा हो जायेगा कि देश मे बीजेपी लोकतंत्र की कैसे हत्या कर रही है।

आज एलजी अनिल बैजल ने दिल्ली पुलिस से पूछा कि अरविंद केजरीवाल कैसे बच रहा है और कैसे मिल रही है आप विधायकों को क्लीन चिट ?

दरअसल आप सांसद संजय सिंह मोदी की संसदीय क्षेत्र बनारस पहुंच गये जिससे मोदी के तेवर बदलना स्वाभाविक थे।

आम आदमी पार्टी लम्बे समय से ये बात कहती आ रही है कि BJP के इशारे पर दिल्ली पुलिस आम आदमी पार्टी के विधायकों को झूठे और अनर्गल केसों में फंसाया जा रहा है।

केंद्र सरकार को बड़ी उत्सुकता थी कि दिल्ली में फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट बनाए जाएं ताकि आम आदमी पार्टी के विधायकों को जल्द से जल्द जेल भेजा जा सके, लेकिन हो इसका उल्टा रहा है। फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट होने की वजह से हमारे विधायक एक के बाद एक बरी होते जा रहे हैं। कोर्ट ने न केवल हमारे विधायकों को बरी किया बल्कि पुलिस को फटकार भी लगाई और चेतावनी देते हुए कहा कि “दिल्ली पुलिस क्यों इस तरह के झूठे और राजनीति से प्रेरित केस कोर्ट के समक्ष पेश कर रही है ?

हमें लगता था कि कोर्ट की इन टिप्पणियों का उप-राज्यपाल साहब संज्ञान लेंगे और दिल्ली पुलिस कमिश्नर से पूछेंगे कि ये कैसे हो रहा है कि झूठे केसों में विधायकों को फंसाया जा रहा है?

लेकिन हैरानी इस बात की है कि उपराज्यपाल साहब बिल्कुल इसके उलट काम कर रहे हैं। दिल्ली पुलिस को फटकार लगाने कि बजाए उप राज्यपाल के ऑफ़िस से दिल्ली के कमिश्नर अमूल्य पटनायक‌ को एक चिट्ठी लिखकर ये पूछा गया है कि “ये कैसे हो रहा है ? कैसे आम आदमी पार्टी के विधायक बरी होते जा रहे हैं ?

अब एक हफ्ते के अन्दर दिल्ली पुलिस कमिश्नर को एक रिपोर्ट बनाकर उपराज्यपाल के दफ्तर में जमा कराने के लिए कहा गया है।

आप सबको जानकार बड़ी हैरानी होगी कि पत्र में उपराज्यपाल साहब ने कुछ लोगों के बारे में खास तौर पर पूछा है कि ये लोग आख़िर कैसे बच गए ?

वे नाम इस प्रकार है

1-      अरविन्द केजरीवाल (मुख्यमंत्री)

2-      मनीष सिसोदिया (उप-मुख्मंत्री)

3-      कैलाश गहलोट (परिवहन मंत्री)

4-      अमानतुल्ला ख़ान (विधायक)

5-      नरेश बाल्यान (विधायक)

6-      मनोज कुमार (विधायक)

ये बेहद शर्म की बात है कि उम्र के इस पड़ाव पर जहाँ उपराज्यपाल साहब की उम्र का कोई भी व्यक्ति चाहे वह कितना ही बुरा क्यों न हो, भगवान का नाम जपता है, उपराज्यपाल साहब इस उम्र में इतनी गन्दी और ओछी राजनीति कर रहे हैं। और सबसे हैरानी की बात तो यह है कि वे एक संवैधानिक पद पर रहते हुए इतनी दोयम दर्जे की गंदी राजनीति दिल्ली की जनता द्वारा चुने गए विधायकों और सरकार में बैठे लोगों के ख़िलाफ़ कर रहे हैं।

https://twitter.com/SocActivistDeep/status/997424334351294464

यह साफ़ है कि बीजेपी के इशारे पर दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल अब दिल्ली की सरकार को गिराने की साज़िश कर रहे हैं।

Check Also

नोटबंदी के बाद सबसे ज्यादा पुराना नोट अमित शाह की बैंक मे जमा हुआ – आरटीआई

यह सही है कि नोटबंदी के बाद सबसे ज्यादा फायदा बीजेपी ने ही उठाया है ...