Breaking News
ईवीएम हैक है

ईवीएम हैक कराये बिना बीजेपी कोई चुनाव नही जीत सकती, ईवीएम में भी डालने लगे फर्जी वोट

बिना ईवीएम हैक कराये बीजेपी शायद ही कोई चुनाव जीत पाये इतना छीछालेदर होने के बाद भी बीजेपी सत्ता की ताकत का बेजा इस्तेमाल कर जनता को विद्रोह करने पर मजबूर कर रही है। जिस दिन जनता सड़क पर उतर जायेगी ये चंद विधायक सांसद कही नजर नही आयेगे।

लोकसभा उप चुनाव-2018 के लिए मतदान जारी है। तमाम सुरक्षा, सावधानी तैयारी के बावजूद मतदान निष्पक्ष नहीं कही जा सकते हैं। सोमवार को अजमेर लोकसभा उपचुनाव के दौरान वोटर लिस्ट से सैकड़ों लोगों के वोट नदारद मिले। कई ग्रामीण और शहरी इलाकों के मतदाताओं को निराश लौटना पड़ा है।

ईवीएम और वीवीपेट मशीन के बावजूद फर्जी मतदान हो रहे हैं। दोनों दलों के कार्यकर्ता और बूथ एजेंट परस्पर तालमेल से कथित तौर पर ऐसा कामकाज कराने में जुटे हैं। चुनाव में मुख्य मुकाबला भाजपा के उम्मीदवार रामस्वरूप लाम्बा तथा इंडियन नेशनल कांग्रेस के रघु शर्मा के बीच है।

हिन्दुस्तान शक्ति सेना के मनोहर गुर्जर, अखिल भारतीय आमजन पार्टी की एडवोकेट रंजिता रावत, दलित शोषित पिछड़ा वर्ग अधिकार दल के शिव भगवान भी चुनाव मैदान में हैं। वहीं 15 निर्दलीय उम्मीदवार हैं भी अपना भाग्य आजमा रहे हैं। आठ मुस्लिम उम्मीदवारों में दो महिलाएं भी हैं।

कहां चले गए वोटर्स के नाम

अजमेर उत्तर, अजमेर दक्षिण विधानसभा सहित केकड़ी, नसीराबाद, मसूदा, किशनगढ़, दूदू, पुष्कर विधानसभा क्षेत्र में सैकड़ों वोटर्स के नाम गायब हैं। ऐसी शिकायतें जिला प्रशासन, पर्यवेक्षक तक पहुंच रही है। लोग बिना वोट डाले वापस लौट रहे हैं। ऐसा तब है जबकि सरकार और प्रशासन मतदाता सूची पुनरीक्षण अभियान चलाता है। वोटर लिस्ट में नाम जुड़वाने और कटवाने का अभियान चलता है। इसके बावजूद मतदाताओं के नाम गायब हैं।

निर्दलीय उम्मीदवार
निर्दलीय उम्मीदवार इंसाफ अली, कमला रावत, कृष्ण कुमार दाधीच, गजेन्द्र सिंह, गणपत, गुल मौहम्मद ,जगदीश बैरवा, दानाराम मेहरडा मेघवंशी, नईम खान, पीरदान सिंह, मुकेश गैना, मोहम्मद नसीम, रविन्द्र सिंह शेखावत, शाहिद खान, सहजाद अली, सुरेन्द्र कुमार जैन, हामिद हुसैन चुनाव मैदान में हैं। 1925 मतदान केन्द्र चुनाव के लिए 1925 मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। इनमें के लिए 1925 मतदान दल का गठन किया गया है।

चुनाव के लिए 18 सहायक बूथ भी बनाए गए हैं। चुनाव में 1925 कन्ट्रोल यूनिट, 3850 बैलेट यूनिट तथा 1925 वीवीपेट मशीनों का उपयोग किया जा रहा है। चुनाव में 9 हजार 625 कार्मिक मतदान की कमान संभाल रहे हैं। मतदान के लिए 6 हजार 228 अद्धसैनिक/ पुलिस बल सुरक्षा व्यवस्था की कमान संभाल रहे हैं।
899424 महिला, 943546 पुरुष मतदात

जिले में 899424 महिला मतदाता, 94 3546 पुरुष मतदाता है। जबकि अन्य मतदाताओं की संख्या 29 है। सर्वाधिक मतदाता 263843 मतदाता किशनगढ़ में जबकि सबसे कम मतदाता 203408 अजमेर दक्षिण विधानसभा क्षेत्र में हैं।

852 बूथ संवेदनशील
जिले में 825 मदान केन्द्रों को संवेदनशील/ अति संवेदनशील घोषित किया गया है। इनमें 783 अजमेर व दूदू में 69 बूथ है। संवेदनशील 90 बूथों पर वीडियोग्राफी होगी जबकि 125 बूथों पर लाइव वेबकास्ट किया जाएगा। 211 जगहों पर अद्र्धसैनिक बल चुनाव की कमान संभालेंगे। चुनाव के लिए 250 माइक्रो ऑब्र्सवर नजर रखेंगे। चुनाव के लिए 162 सेक्टर मजिस्ट्रेट तथा 21 एरिया मजिस्ट्रेट लगाए गए हैं।

प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के लिए 1-1 सहायक रिटर्निंग अधिकारी लगाए गए हैं। प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के लिए कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। सुबह 7 से 7.15 बजे के बीच उम्मीदवारों के एजेंटों की मौजूदगी में 3-3 मॉक वोट डाले जाएंगे। इन वोटों को अलग लिफाफे में सील कर रखा जाएगा।

साभार पत्रिका

Check Also

कर्नाटक मे एक मजदूर के घर 8 ईवीएम मशीने मिलने से सनसनी

बीजेपी बिना ईवीएम हैक कराये कोई भी चुनाव नही जीत सकती है अब इस बात ...